Seema Darshan Project 2022: सीमा दर्शन परियोजना 2022 क्या है ? जाने सम्पूर्ण जानकारी

सीमा दर्शन परियोजना 2022 | Seema Darshan project | Seema Darshan program | Seema Darshan scheme | सीमा दर्शन परियोजना | सीमा दर्शन योजना | सीमा दर्शन परियोजना का उद्देश्य एवं लाभ | सीमा दर्शन परियोजना 2022 क्या है ?

हमारा देश काफी विशाल देश है उसकी भौगोलिक सीमाएं काफी जटिल एवं लंबी भी हैं, इसलिए देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए हर दम चुनौतियां बनी रहती हैं। इन चुनौतियों में आतंकवादतस्करी आदि शामिल हैं। इसलिए इतने बड़े देश की सुरक्षा करने के लिए भारत सरकार द्वारा एक बड़ी सेना रखी गई है जिसके पास देश की सुरक्षा का भार है। सेना पर से सुरक्षा का भार कम करने के लिए भारत सरकार द्वारा सेना में ही अन्य अंगों को शामिल किया गया है जैसे बीएसएफ, अर्ध सैनिक बल, सीआरपीएफ इत्यादि भी देश की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा संभाले हैं । इन सब की वजह से सेना अब स्वतंत्र होकर अपना काम कर रही है । भारत का बीएसएफ अर्थात बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स यानी सीमा सुरक्षा बल। यह भारत की चारों तरफ की सीमाओं पर सुरक्षा की जिम्मेदारी लिए हुए हैं। बीएसएफ का मुख्य कार्य भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा करना है।

इन्हें भी पढ़े…

स्मार्ट अर्बन फार्मिंग योजना 2022

तेजस कौशल प्रशिक्षण परियोजना 2022

उत्तर प्रदेश उर्जा शक्ति योजना 2022

प्रधानमंत्री उज्वला योजना 2022

Free Silai Machine Yojana 2022

बीएसएफ द्वारा बॉर्डर पर बहुत ही सराहनीय व अतुल्य कार्य किए जा रहे हैं। वह वहां बॉर्डर पर नागरिकों के प्रति भी काफी उदार मानवीय व्यवहार करते हैं। वह अपनी जान पर खेलकर देश की सुरक्षा चाक-चौबंद रखते हैं। बीएसएफ द्वारा अनेक मिलिट्री ऑपरेशन सफलतापूर्वक अंजाम दिए जा चुके हैं इससे साबित होता है कि बीएसएफ देश के प्रति कितनी बहादुर एवं निष्ठावान है। बीएसएफ के अतुलनीय कार्यों को भारत के नागरिकों को दिखाने के लिए भारत सरकार के सहयोग एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा सीमा दर्शन परियोजना 2022 की शुरुआत की गई है। इस योजना के माध्यम से नागरिक बीएसएफ के अदम्य साहस की कहानियों को प्रत्यक्ष देख सकेंगे। अतः सीमा दर्शन परियोजना 2022 की विस्तृत जानकारी जैसे सीमा दर्शन प्रोग्राम क्या है, इसके उद्देश्य तथा लाभ क्या है, सीमा दर्शन परियोजना कहां शुरू हो रही है, इत्यादि की विस्तृत जानकारी इस लेख में दी गई है, इसलिए इसलिए को अंत तक अवश्य पढ़ें।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 )

भारत की सुरक्षा चुनौतियां काफी बड़ी है । इन्हीं चुनौतियों से निपटने के लिए भारत सरकार द्वारा अनेक फोर्सेज का गठन किया गया है। इनमें से बीएसएफ काफी महत्वपूर्ण अंग है जिसके हिस्से में भारत की पश्चिमी तथा पूर्वी बॉर्डर की सुरक्षा है। बीएसएफ द्वारा बॉर्डर पर देश हित में काफी सराहनीय कार्य किए जाते रहे हैं इसलिए बीएसएफ के अचंभित करने वाले कार्यों को जनता को दिखाने के लिए केंद्रीय ग्रह एवं सहकारिता मंत्री श्रीमान अमित शाह द्वारा 10 अप्रैल 2022 को गुजरात के बनासकांठा जिले में भारत व पाक बॉर्डर पर स्थित नडाबेट स्थान पर सीमा दर्शन पर परियोजना 2022 का उद्घाटन किया गया है। सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) के उद्घाटन के मौके पर गुजरात के मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेंद्र पटेल तथा गुजरात राज्य के पर्यटन मंत्री पुनेश मोदी तथा बीएसएफ के महानिदेशक भी उपस्थित थे।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) के उद्घाटन के दौरान गृहमंत्री श्रीमान अमित शाह जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में यह बहुउद्देशीय तथा पर्यटन को बढ़ावा देने वाली परियोजना को पूरा किया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा देश विश्व में नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है क्योंकि हमारे सीमा सुरक्षा बल सुरक्षा की जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे हैं। यहां पर बताते चलें कि बीएसएफ विश्व का सबसे बड़ा सीमा सुरक्षा बल है। बीएसएफ का गठन 1 दिसंबर 1965 को हुआ तथा इसका मुख्यालय दिल्ली में है एवं इसका आदर्श वाक्य “जीवन पर्यंत कर्तव्य” है।

सीमा दर्शन प्रोजेक्ट ( Seema Darshan Project 2022 ) गुजरात में स्थित नडाबेट स्थान पर पंजाब के बाघा अटारी बॉर्डर की तर्ज पर ही विकसित किया गया है । यह परियोजना गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग एवं बीएसएफ गुजरात फ्रंटियर द्वारा एक साझा पहल के द्वारा विकसित की गई है। सीमा दर्शन परियोजना के पूर्ण होने से यहां पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे। सीमा दर्शन प्रोग्राम की कुल अनुमानित लागत लगभग 125 करोड़ रुपए है।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ): Short Details

योजनासिद्ध प्रयोजन सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 )
उद्देश्यबीएसएफ के दैनिक एवं साहसिक कार्यों को नागरिकों को दिखाना
लाल लाभपर्यटन तथा रोजगार को बढ़ावा देना
शुरुआतभारत सरकार एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग तथा बीएसएफ द्वारा
वर्ष10 अप्रैल 2022
योजना लागत125 करोड़ों रुपए

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) का मुख्य आकर्षण-

सीमा दर्शन प्रोग्राम ( Seema Darshan Project 2022 ) में बीएसएफ के जवानों की कार्यशैली का सजीव चित्रण किया जाएगा। जिससे देश की जनता बीएसएफ के साहसिक कार्यों के बारे में जान सकेगी । बीएसएफ के मुख्य आकर्षण इस प्रकार हैं-

  • बीएसएफ के मुख्य आकर्षण में बीएसएफ सैनिकों द्वारा दैनिक परेड भी शामिल है परेड को देखकर दर्शक रोमांचित एवं गर्वित भी ही महसूस करेंगे।
  • देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों को बलिदान देने वाले हमारे वीर सैनिकों की याद में “अजय प्रहरी” नामक एक भव्य स्मारक भी बनाया गया है, जिसे भी दर्शक आसानी से देख सकेंगे।
  • सीमा दर्शन प्रोग्राम ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत पर्यटक नदाबेट मे भारतीय जवानों एवं बीएसएफ के वीर सपूतों के द्वारा प्रयोग में लाए गए विभिन्न हथियारों जैसे- सभी प्रकार की मिसाइल, T-55 टैंक , आर्टिलरी गन ,टारपीडो, राडार , बिंग, लड़ाकू विमान जैसे मिंग 21 , mig-27 इत्यादि भी देख सकेंगे।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) का उद्देश्य-

सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) की शुरुआत केंद्र व गुजरात सरकार द्वारा संयुक्त रूप से की गई है। गुजरात में स्थित नडाबेट को गुजरात का बाघा बॉर्डर भी कहा जा सकता है। ध्यातव्य है कि नडाबेट में वर्ष 1971 के भारत व पाकिस्तान युद्ध के समय महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत कम आबादी और कम वनस्पति वाले क्षेत्र में बॉर्डर पर पर्यटन को डेवलप करने पर मुख्यता ध्यान लगाया गया है। इस योजना से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा रोजगार सृजन एवं सीमा पर घुसपैठ, तस्करी इत्यादि को भी रोका जा सकता है।

सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) का उद्देश्य लोगों को ऐसा बेहतरीन मौका प्रदान करना है जिससे वह यह जान सकें कि भारत की सीमाओं पर बीएसएफ बलों के जवानों का जीवन कितना संघर्ष पूर्ण व किस प्रकार संघर्षमय में होता है तथा नडाबेट को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करना है। सीमा दर्शन प्रोजेक्ट ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत देश के नागरिकों को अपनी भारत माता की रक्षा कर रहे बीएसएफ के जवानों की जीवन शैली तथा दैनिक कार्यों को प्रत्यक्ष रूप से एवं नजदीक से देखने का अवसर प्रदान करना है।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) के लाभ-

गृहमंत्री श्रीमान अमित शाह द्वारा 10 अप्रैल 2022 को गुजरात के बनासकांठा जिले में नडाबेट नामक स्थान पर सीमा दर्शन परियोजना 2022 का उद्घाटन किया गया। सीमा दर्शन परियोजना का मुख्य लाभ पर्यटन को बढ़ावा देना तथा उससे वहां रोजगार सर्जन को बढ़ावा देना है। सीमा दर्शन परियोजना 2022 के अन्य लाभ इस प्रकार हैं-

  • सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत देश के नागरिक बीएसएफ के साहसिक कार्यों से अवगत हो सकेंगे तथा वह बीएसएफ के जवानों की देशभक्ति को देखकर खुद ने भी देशभक्ति का जज्बा जागृत कर सकते हैं।
  • सीमा दर्शन प्रोजेक्ट ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत राष्ट्र के नागरिकों को बीएसएफ एवं सेना के प्रति विश्वास बढ़ेगा तथा उन्हें विश्वास होगा कि उनके देश की सुरक्षा सुरक्षित हाथों में है।
  • इस योजना के माध्यम से देश के नागरिक बॉर्डर पर जाकर बीएसएफ द्वारा युद्ध में इस्तेमाल किए गए हथियारों को देख सकेंगे ।
  • सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत देश के नागरिक मिसाइल टैंक, तोप, लड़ाकू विमान, मशीन गन , रडार इत्यादि को नजदीक से देख कर रोमांचित महसूस करेंगे।
  • बीएसएफ द्वारा आयोजित सैन्य परेड को देखकर भी देश के नागरिक रोमांचित व गर्वित महसूस करेंगे।
  • सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) के माध्यम से वहां लोगों के आगमन से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा जिससे रोजगार की बड़े पैमाने पर उत्पत्ति होगी होगी।
  • सीमा दर्शन योजना ( Seema Darshan Project 2022 ) के आरंभ होने से सीमा पार से घुसपैठ, तस्करी आदि को रोका जा सकता है।
  • पर्यटकों के लिए नडाबेट में गुजरात सरकार के तरफ से तमाम सुविधाओं को विकसित किया गया है यहां पर सीमा दर्शन प्रोजेक्ट ( Seema Darshan Project 2022 ) के तहत 3 अराइवल फूड प्लाजा भी बनाए गए हैं। फूड प्लाजा में स्थानीय व्यंजन के साथ देश के मशहूर व्यंजनों का भरपूर आनंद ले सकते हैं।
  • सीमा दर्शन प्रोजेक्ट ( Seema Darshan Project 2022 ) के सफल होने पर यहां फूड इंडस्ट्री, टूरिज्म इंडस्ट्री, होटल इंडस्ट्री इत्यादि को बढ़ावा मिलेगा।
  • बीएसएफ के परेड को प्रत्यक्ष रूप से देखने के लिए 5000 लोगों की क्षमता वाला परेड ग्राउंड भी तैयार किया जाएगा।

सीमा दर्शन परियोजना 2022 ( Seema Darshan Project 2022 ) का मूल्यांकन करने के बाद कहा जा सकता है कि यह योजना देश के नागरिकों में देशभक्ति की भावना बढ़ाएगी तथा साथ ही लोग बीएसएफ के दैनिक कार्यों को नजदीक से देख सकेंगे जिससे वह काफी प्रेरित भी होंगे, साथ ही साथ सीमा दर्शन प्रोजेक्ट से पर्यटन एवं रोजगार को भी बढ़ाने में मदद मिलेगी।

अतः प्यारे दोस्तों सीमा दर्शन परियोजना ( Seema Darshan Project 2022 ) के बारे में दी गई जानकारी अगर आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर अवश्य करें एवं अगर कोई हमें सुझाव देना या प्रश्न पूछना चाहते हैं तो कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं । आपको आपका उत्तर अवश्य दिया जाएगा तथा अन्य आने वाली योजनाओं व परियोजनाओं की जानकारी के लिए नोटिफिकेशन बटन को अवश्य दबाएं।

FAQs…

प्रश्न- सीमा दर्शन परियोजना 2022 क्या है?

उत्तर- सीमा दर्शन परियोजना नागरिकों में राष्ट्रवाद की भावना विकसित करने तथा उन्हें नडाबेट में बॉर्डर भ्रमण कराने के लिए शुरू की गई है।

प्रश्न- सीमा दर्शन परियोजना 2022 का उद्देश्य क्या है?

उत्तर- इस योजना का उद्देश्य पर्यटन तथा रोजगार को बढ़ावा देना व बीएसएफ के दैनिक कार्यों से देश की जनता को अवगत कराना है।

प्रश्न- सीमा दर्शन परियोजना कहां शुरू की गई है?

उत्तर- सीमा दर्शन परियोजना गुजरात के बनासकांठा जिले में नडाबेट नामक स्थान पर शुरू की गई है

प्रश्न- सीमा दर्शन प्रोग्राम किसके द्वारा शुरू किया गया है?

उत्तर- सीमा दर्शन प्रोग्राम भारत सरकार के सहयोग एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग तथा बीएसएफ के सहयोग द्वारा शुरू के लिए किया गया है

प्रश्न- सीमा दर्शन प्रोजेक्ट की कुल लागत कितनी है?

उत्तर- सीमा दर्शन प्रोजेक्ट की कुल लागत 125 करोड़ रुपए है

Leave a Comment

Copy link