मध्य प्रदेश (MADHYA PRADESH) :- DPR तैयार कर वित्त विभाग को भेजा गया,इससे छात्रों को मिलेगा अच्छा लाभ

डॉ मोहन यादव ने निर्देश दिए हैं कि पहले छात्र को महाविद्यालय से जोड़ने के लिए एक फ्रेमवर्क (framework) तैयार करें हर साल एल्यूमिनी मीट का आयोजन करें मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सभी कॉलेजों के छात्रों के लिए खुशखबरी है। यह सोमवार को विभागीय समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि व्यावसायिक पाठ्यक्रम के तहत प्रथम साल में जैविक खेती एवं बागवानी के पाठ्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। आप सभी छात्रों को बता देगी जैविक कृषि से तात्पर्य है। खेती हेतु जैविक अवयवों का उपयोग एवं रसायनिक उर्वरकों, तरुण ना सको और कीटनाशकों का परिष्कार आपको बता दें। कि जैविक कृषि को एक उत्पादन पद्धति के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। एक विधि से मिट्टी की उत्पादकता, उर्वरता, कीटनाशक और फफूंद नाशक में काफी मदद मिलती है। इसलिए यह अच्छी मान्य है।

Read More …..मध्य प्रदेश बोर्ड (MADHYA PRADESH BOARD) की परिक्षाएं शिक्षा मंत्री ने की पुष्टि

madhya pradesh colleges reopening
मध्य प्रदेश (MADHYA PRADESH) :- DPR तैयार कर वित्त विभाग को भेजा गया,इससे छात्रों को मिलेगा अच्छा लाभ 3

बागवानी पाठ्यक्रम पर छात्रों का सुझाव

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के 346 शासकीय महाविद्यालयों में अध्ययनरत लगभग 70518 छात्रों ने जैविक खेती और 196 शासकीय महाविद्यालयों में अध्ययनरत 14745 छात्रों ने बागवानी पाठ्यक्रम का चयन किया है। तथा आप सभी को बता दें कि मुख्य सचिव उच्च शिक्षा शैलेंद्र सिंह ने बताया कि मध्य प्रदेश में 120 महाविद्यालय कल संख्या संस्थान के रूप में है। तथा पहले चरण में 50 महाविद्यालयों को संस्थान के रूप में बुलाने के लिए डीपीआर तैयार कर वित्त विभाग को प्रेषित किया गया है। वहीं आयुक्त उच्च शिक्षा दीपक सिंह ने प्रदेश के सभी स्वास्थ्य के अग्रणी महाविद्यालयों को आदर्श महाविद्यालय में विकसित करने एवं शासकीय विज्ञान महाविद्यालय, उज्जैन के मॉडल को अग्रणी महाविद्यालयों में लागू करने की जानकारी दी है।

Read MoreMP Board Class 11th Question Bank Solutions 2022 download PDF

फ्रेमवर्क (FRAMEWORK) तैयार करने के आदेश

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) राज्य सरकार के अनुसार उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि डिजिटल माध्यम का अधिकाधिक उपयोग करते हुए। स्मार्ट क्लास गुणवत्तापूर्ण एवं उपयोगी हो इसका सतत विश्लेषण और परीक्षण किया जाए थर्ड पार्टी निरीक्षण स्वतंत्र एजेंसी से ही कराया जाए। निष्पक्ष रुप से कमियों का आंकलन कर समीक्षा करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। कि प्रदेशों के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों राष्ट्रीय स्तर पर मूल्यांकन में अग्रणी बनने के लिए विशेष प्रयास किए जाए हर कॉलेज को अच्छी ग्रेडिंग मिले इसके लिए पूर्व छात्रों को जोड़कर ने रैंकिंग में अच्छे ग्रेड के लिए सहयोग दें। तथा सभी पहले विद्यार्थियों को महाविद्यालय से जोड़ने के लिए एक फ्रेमवर्क (framework) तैयार किया गया है। हर साल एल्यूमिनी मीट का आयोजन करें महाविद्यालयों को स्मारक में भी पहले छात्रों द्वारा किए गए सहयोग को सचित्र प्रदर्शित करेगा।

2 डिग्री मान्य नहीं अब एक सत्र में

सभी छात्रों (All students) को बता दें कि अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय की ओर से ऐसे छात्रों की परीक्षाएं निरस्त कर दी गई है। जिन्होंने एक ही साल के दौरान 2 डिग्रियां हासिल करने की इच्छा रखी थी बताया गया है। कि प्रशासन की ओर से कार्य परिषद की सामान्य बैठक में लिए गए निर्णय पर किया गया है। बताया गया है कि जिन छात्रों की परीक्षाएं निरस्त की गई है। उन्होंने 1 साल में दो-दो डिग्रियां हासिल करने की सोची थी। लेकिन ऐसा नहीं होगा उदाहरण स्वरूप ऐसे छात्र जिन्होंने एक ही साल में 2 डिग्री या पाने की इच्छा रखी है। वहीं दूसरी और उन्होंने उसी साल में b.ed की डिग्री भी हासिल की है। इस तरह एक ही वर्ष में 2 डिग्री हासिल करने के कारण छात्रों की परीक्षाएं निरस्त करने का आदेश दिया गया है बताया गया है। कि 2 डिग्री हासिल करने की अनुमति अध्यादेश सिक्स के अनुसार नहीं है।

आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी तथा इस जानकारी को अपने दोस्तों के पास भी शेयर करें धन्यवाद!!!!!!

X
Optimized by Optimole