भारतीय शिक्षा का इतिहास एवं विकास -महत्वपूर्ण प्रश्न 21

‘बिस्मिल्लाहखानी’पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए

उत्तर- मुस्लिम कॉल में प्राथमिक शिक्षा एक धार्मिक रशिया संस्कार द्वारा प्रारंभ की जाती थी।इस रेशमिया संस्कार को ‘बिस्मिल्लाहखानी’ आ जाता था। सैद्धांतिक रूप से समस्त मुसलमान बालकों के लिए यह प्रथम तथा प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य थी परंतु व्यवहार में प्राय ऐसा नहीं हो पाता था सामान्य रूप से बालक की आयु जब 4 वर्ष, 4 माह तथा 4 दिन होती थी तब शिक्षा आरंभ करने की रसम बिस्मिल्लाहखानी संपन्न की जाती थी यह रसम एक समारोह के रूप में आयोजित की जाती थी। बालक के रिश्तेदारों को आमंत्रित किया जाता था। बालक को नए तथा अच्छे कपड़े पहनाई जाती थी।रेशम को पूरा करने का कार्य मौलवी द्वारा किया जाता था। मौलवी साहब कुरान की कुछ विशिष्ट आयतों का उच्चारण करते थे तथा बालक को भी उन्हें डराने के लिए कहा जाता था आयतों का उच्चारण करना कठिन होता था इसीलिए बालक द्वारा बिस्मिल्लाह हा का उच्चारण करना है पर्याप्त मान लिया जाता था।

X
Optimized by Optimole