भारतीय शिक्षा का इतिहास एवं विकास -महत्वपूर्ण प्रश्न 19

बौद्ध कालीन स्त्री शिक्षा का उल्लेख कीजिए।

उत्तर-बौद्ध काल में शुभम महात्मा बुद्ध ने स्त्री शिक्षा को प्रोत्साहन दिया।यही कारण था कि बौद्ध काल में कुछ विदुषी स्त्री अत्यधिक विख्यात हुई थी।इस काल की कुछ सुशिक्ता स्त्रियों के नाम थे-सुभा ,अनुपमा ,सुमेधा तथा विजयनका। इन स्त्रियों में बौद्ध धर्म के प्रचार तथा साहित्य के सर्जन ने उल्लेखनीय योगदान किया। संघमित्रा मौर्य सम्राट अशोक महान की पुत्री थी जिसे अशोक ने सीहलद्वीप(श्रीलंका) मैं बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए भेजा था उपरोक्त विवरण द्वारा स्पष्ट है कि बौद्ध काल में स्त्री शिक्षा का प्रचलन था परंतु इस काल में स्त्री- शिक्षा की कोई उत्तम अवस्था न थी। वास्तव मैं इस काल में केवल सीमित संख्याओं में ही स्त्री शिक्षित हो पाई तथा साधारण वर्ग की बालिकाओं के लिए शिक्षा की कोई अच्छी व्यवस्था नहीं थी।वास्तव में बौद्ध मठों मैं स्त्रियों का प्रवेश सीमित ही रहा तथा बौद्ध भिक्षु द्वारा बालिकाओं को शिक्षित करने की कोई व्यवस्था नहीं थी। निष्कर्ष स्वरूप डॉक्टर अलतेकर ने कहा है-” स्त्री- शिक्षा को बौद्ध धर्म से किसी प्रकार की प्रेरणा प्राप्त ना हो सकी।”

X
Optimized by Optimole