National youth day: 12 जनवरी राष्ट्रीय युवा दिवस, स्वामी विवेकानंद जयंती

National youth day: 12 जनवरी को हर साल स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के रूप में मनाया जाता है यह दिन देश के युवाओं को समर्पित किया जाता है जो भारत के लिए एक बेहतर राष्ट्र बेहतर भविष्य के रूप का आकार देने की क्षमता रखते हैं स्वामी विवेकानंद जी का युवाओं से काफी गहरा संबंध था इसी स्वरूप स्वामी विवेकानंद जी की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस भी कहा जाता है।

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ था इनका असली नाम नरेंद्र नाथ दत्त था। ये वेदांत के बहुत प्रभावशाली व विख्यात आध्यात्मिक गुरु थे। केवल 25 वर्ष की आयु में विवेकानंद जी ने सांसारिक भौतिक सुख त्याग कर सन्यासी बन गए थे। इसके पश्चात 1881 में विवेकानंद जी की भेंट रामकृष्ण परमहंस जी से हुई जिसके बाद वे पूरे विश्व मे लोगों को दार्शनिक और विचारक के तौर पर प्रेरित करने लगे।

यह भी पढ़ें– AIIMS Recruitment 2022: 2-लाख तक सैलरी, 15 फरवरी है लास्ट डेट

स्वामी विवेकानंद जी को दर्शन इतिहास कला सामाजिक विज्ञान धर्म साहित्य का प्रगाढ़ ज्ञान था शिक्षा में निपुण होने के साथ-साथ वह शास्त्रीय संगीत का भी ज्ञान रखते थे। स्वामी विवेकानंद जी के जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने का मुख्य कारण युवाओं को स्वामी जी के आदर्शों और विचारों से अवगत कराना है स्वामी जी एक महान समाज सुधारक दार्शनिक और विचारक थे वह देशभर के युवाओं के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है उनकी शिक्षा एवं आदर्शों को युवाओं के लिए रोल मॉडल के रूप में प्रस्तुत किया जाता है।

स्वामी जी की जयंती के दिन रामकृष्ण मठ रामकृष्ण मिशन के केंद्र तथा उनकी शाखाओं में बड़े जोरों शोरों से कार्यक्रमो आयोजन क्या जाता है। साथ ही देश के कोने कोने में इस खास मौके पर रैलियों का आयोजन भी किया जाता है।

आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी यदि आपके कोई सुझाव है तो आप हमें फीडबैक भी दे सकते हैं।

यह भी पढ़ेंCTET 2021 Revised Date: नई परीक्षा तारीखों का ऐलान, यहां मिलेगा एडमिट कार्ड

X
Optimized by Optimole