MP corona: आज सीएम ले सकते हैं बड़ा फैसला, क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक

मध्यप्रदेश में अब तक 10 नए वेरिएंट ओमीक्रोन के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है।

मध्य प्रदेश में पिछले 1 सप्ताह से कोरोना के देशों में बेलगाम बढ़ोतरी हो रही है वहीं दूसरी तरफ सोमवार से मध्य प्रदेश [ Madhya Pradesh ] में 15 से 18 वर्षीय बच्चों के टीकाकरण यानी वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी इसके लिए 1 जनवरी से रजिस्ट्रेशन का काम शुरू कर दिया गया है इसी बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक लेना अपने आप में एक चर्चा का विषय है क्योंकि इस बैठक में माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कुछ बड़े फैसले ले सकते हैं।

इन्हें भी पढ़े... किसान सम्मान निधि : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का किसानों को नए साल पर तोहफा 20 हजार करोड़ किए ट्रांसफर

इतना ही नहीं इस बैठक में 12 लाख बच्चों को वैक्सीन लगाने के लक्ष्य पर चर्चा की जाएगी इसके अलावा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पंचायत सचिवों को भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान [CM Shivraj Singh Chohan ] संबोधित करेंगे प्रदेश के करीब 4927000 बच्चों को वैक्सीन लगाई जानी है जिसके लिए प्रथम चरण के पहले दिन 12 लाख बच्चों का लक्ष्य रखा गया है इसके अलावा मध्यप्रदेश में संक्रमण की तैयारी को देखते हुए माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान [ CM Shivraj Singh Chohan ] क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में प्रदेश के सभी जिलों के संबंधित अधिकारियों को निर्देश दे सकते हैं।

इन्हें भी पढ़े... MP Board ने जारी की टोल फ्री हेल्पलाइन सेवा, सभी छात्रों के शंकाओं का होगा समाधान – जाने

माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के 15 से 18 वर्ष के बच्चों को कोरोना टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन [ Registration ] कराने का आग्रह किया है इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि नए साल के अवसर पर 1 जनवरी से देश में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के टीकाकरण के लिए cowin पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है सभी पात्र बच्चों के परिजनों से आग्रह है कि अपने बच्चों का रजिस्ट्रेशन अवश्य कराएं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान [ cm shivraj singh chohan ] ने कहा कि सभी किशोरों को कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान 3 जनवरी से शुरू होगा 1 जनवरी से cowin ऐप और वेब पोर्टल के जरिए बच्चे रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे। वही ऐसे बच्चे जिनका जन्म 2007 में या उससे पहले हुआ है वह रजिस्ट्रेशन के लिए पात्रता रखते हैं मध्य प्रदेश में 1 जनवरी को 124 नए कोरोना के मरीजों की पुष्टि हुई थी। रिकॉर्ड के अनुसार सबसे ज्यादा केस इंदौर में 80 रिकॉर्ड किए गए थे तथा 27 मरीज भोपाल में रिकॉर्ड किए गए थे।

इन्हें भी पढ़े... MP College Update : ऑनलाइन कक्षाओं को लेकर विभाग की बड़ी तैयारी, शिक्षकों को दिया जाएगा प्रशिक्षण-जाने

साथ ही आपको बता दें कि बीते 14 दिनों में मध्यप्रदेश में 633 नए कोरोना के मरीजों की पुष्टि हुई है जिसमें भोपाल और इंदौर में सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज देखने को मिले हैं इसके अलावा छोटे जिलों में भी संक्रमण की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है जिसके बाद मध्य प्रदेश सरकार द्वारा होम आइसोलेशन की व्यवस्था शुरू कर दी गई है साथी अस्पतालों में पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था की जा रही है।

हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहले ही कहा है कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए सभी सताए लेकिन जन सहयोग की अपेक्षा की जाती है उन्होंने कहा कि सभी आवश्यक सुविधाएं तैयार कर ली गई हैं लेकिन लोगों को सजग और सतर्क रहने की आवश्यकता है मध्यप्रदेश में अब तक 10 नए वेरिएंट ओमीक्रोन जो कि कोरोना का एक नया वेरिएंट है के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। साथ ही केंद्र सरकार द्वारा डब्ल्यूएचओ के निर्देश के बाद सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकार को निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

इन्हें भी पढ़े... MP School : नए साल में स्कूलों को मिलेगी बड़ी सौगात, शिक्षा व्यवस्था में होगा सुधार-जाने

केंद्र सरकार द्वारा जारी निर्देशों में कहा गया है कि राज्य सरकार द्वारा फॉर्म आइसोलेशन [ isolation ] के व्यवस्था शुरू करने के साथ ही साथ अस्पतालों में पर्याप्त भीड़ और ऑक्सीजन की व्यवस्था को पुख्ता किया जाए साथ ही दर 10% से अधिक होने पर या अस्पतालों में मरीज के 40% आईसीयू ऑक्सीजन [ ICU Oxygen ] सपोर्ट पर होने पर कंटेनमेंट जोन तैयार किए जाएं कहीं पर राज्यों में प्रतिबंध को लागू कर दिया गया है दिल्ली सहित हरियाणा में सिनेमाघर सहित स्कूल कॉलेजों को बंद कर दिए गए हैं जबकि कई राज्य में नाइट कर्फ्यू लगाए जा चुके हैं।

X
Optimized by Optimole