पंचलाइट कहानी का सारांश 2022 बोर्ड पेपर में जरूर आएगी

पंचलाइट रेनू जी की आंचलिक कहानी है कहानी में बिहार के एक पिछड़े गांव के प्रवेश का सुंदर चित्रण प्रस्तुत किया गया है

महतो टोली में अशिक्षित लोग उन्होंने रामनवमी के मेले में एक पेट्रोमैक्स खरीदा जिसे वे पंचलेट कहते थे पंचलाइट को यह सीधे-साधे लोग सम्मान की चीज समझते हैं पंचलाइट को देखने के लिए टोली के सभी बालक औरत और मर्द इकट्ठे हो जाते हैं सरदार अपनी पत्नी को आदेश देता है कि शुभ कार्य को करने के लिए वह पूजा पाठ करें सभी उत्साहित है परंतु समस्या उठती है कि पंचलाइट को जलएगा कौन सीधे साधे लोगों को पेट्रोमैक्स को जलाना नहीं आता था।

Advertisements

इस टोली में गोधन नाम का एक युवक है वह गांव की मुनरी नाम कि एक लड़की से प्रेम करता है मुनरी की मां ने पंचों से गोधन की शिकायत की थी कि वह उसके घर के सामने से सिनेमा का गाना गाकर निकलता है इस कारण पंचों से ने उसे जाति से निकाल रखा है । मुनरी को पता था कि गोधन पंचलाइट को जला सकता है तो वह चतुराई से यह बात पंच तक पहुंचाती है पंच गोधन को पुन: जाति में ले आते हैं वह पंचलाइट को जला देते हैं मुनरी की मां गुलेरी प्रसन्न होकर गोधन को शाम को भोजन पर निमंत्रण करती है पंच की अति उत्साहित होकर गोधन को कह देते हैं तुम्हारा साथ खून माप खूब गाओ सलीमा का गाना

पंचलाइट की रोशनी में लोग भजन कीर्तन करते तथा उत्साह मनाते।

Advertisements

कहानी का कथानक सजीव सीधे-साधे अनपढ़ लोगों के सेवादारों को वाणी देने में रेनू जी का समर्थन रहे है इस कहानी में आंचलिक जीवन की सजीव झांकी प्रस्तुत की गई है।

Advertisements